Wednesday, December 1, 2010

जो नेक रहेगा , वही एड्स से बचेगा . Aids

एड्स दिवस पर विशेष संदेश

ये ज़मीं खाएगी , न आसमां खा जाएगा
आदमी को फ़क़त उसका गुनाह खा जाएगा

ज़िना से बचो और छोड़ दो लवातुत को तुम
दुनिया से एड्स खुद ब खुद चला जाएगा

सुन्नत में पोशीदा है सेहत ओ ताक़त का राज़
ख़त्ना करा लो, जीने का मज़ा आ जाएगा

'ध्यान' करो मगर बीवी का भी रखो ध्यान
तुम्हारे गंदे अंग से मर्ज़ उसे चला जाएगा

सेक्स है तो है दुनिया में है  वुजूदे मर्दो ज़न
सेक्स में गड़बड़ से नक्स   बड़ा आ जाएगा

दाता को आशा है इंसां से आज भी
कि  मेरी राह पर बंदा एक रोज़ आ जाएगा
.........
ज़िना-व्यभियार, लवातुत-समलैंगिकता,ज़न-औरत, नक्स - नुकसान ( सही शब्द नक्स है , लोग नुक्स  बोलते हैं .)

21 comments:

एस.एम.मासूम said...

एड्स दिवस पे शायद इस से अच्छा सन्देश कोई नहीं दे सकता..शुक्रिया आप का..

एस.एम.मासूम said...

एड्स दिवस पे शायद इस से अच्छा सन्देश कोई नहीं दे सकता..शुक्रिया आप का..

Dr. Jameel Ahmad said...

कविता भी और पैग़ाम भी ।

Dr. Jameel Ahmad said...

हुक्म ए खुदा को मानने का नफ़ा सिर्फ अमल करने से ही सामने आता है .

Dr. Jameel Ahmad said...

हुक्म ए खुदा को मानने का नफ़ा सिर्फ अमल करने से ही सामने आता है .

URDU SHAAYRI said...

यह ज़मीं खाएगी, न आसमां खा जाएगा
आख़िर ये जहां फिर कहां चला जाएगा ?

URDU SHAAYRI said...

अच्छा संदेश .

DR. ANWER JAMAL said...

@ उर्दू शायरी

यह ज़मीं खाएगी , न आसमां खा जाएगा
आया है जहाँ से, जहाँ वहीं चला जाएगा

DR. ANWER JAMAL said...

@ जनाब मासूम साहब , डा. जमील साहब, उर्दू शायरी
मैं आपकी आमद के लिए शुक्रगुजार हूँ ।

Dr. Ayaz Ahmad said...

अच्छी पोस्ट

Dr. Ayaz Ahmad said...

दुनिया अब ख़त्ना की ज़रूरत को समझने लगी है पिछले दिनों युगांडा मे भी हजारो लोगों ने ख़तना कराई ।

Kunwar Kusumesh said...

एड्स दिवस पर ग़ज़ल के ज़रिये अपना सन्देश देकर आपने एक अच्छे नागरिक का फ़र्ज़ निभाया है.
आपके निम्न शेर:- .
"ज़िना से बचो और छोड़ दो लवातुत को तुम
दुनिया से एड्स खुद ब खुद चला जाएगा"
में
सन्देश तो बड़ा प्यारा है मगर आपको पता है की लवातुत(समलैंगिकता)को कुछ मंत्रियों और कोर्ट ने सही ठहरा दिया है.
मेरा एक दोहा है:-
समलैंगिक पढ़ खुश हुए,न्यायालय आदेश.
अब लिखा तुम पाओगे,राजू संग राजेश.

बहरहाल आपने उक्त पोस्ट लगाकर बेहतरीन काम किया है.

DR. ANWER JAMAL said...

हमें नेकी पर चलने के लिए एक आदर्श व्यक्ति और तमीज़ दरकार है
@ कुंवर कुसुमेश जी , अपने भी एक नेक कम को सहारा देकर नेकी को मजबूत किया है . आपकी तारीफें मैंने बहुत सुनी हैं .
आपकी पंक्तियाँ लाजवाब हैं . निस्संदेह , यह हमारी विडंबना है लेकिन यह है क्यों ?
मैं जब इस पर लिखता हूँ तो हिमायत करने सामने कम ही आते हैं .
आज भारतीय समाज के पास एक भी ऐसी आइडियल पर्सनैल्टी नहीं है जिसके अनुकरण के लिए समाज का आह्वान किया जा सके .
है कोई ?
अगर हो तो आप बता दीजिये . यह महज़ एक बौद्धिक सलाह ले - दे रहा हूँ .
हमें नेकी पर चलने के लिए नेकी और बदी में बिलकुल साफ़ तमीज़ दरकार है और एक ऐसे आदर्श व्यक्ति की , जो न्याय , समानता और नैतिकता का ऐसा नमूना हो की जो उसने दूसरों से कहा हो , दूसरों से पहले खुद उसे दूसरों से बढ़कर किया हो.

संजय भास्कर said...

अच्छा संदेश .

Anonymous said...

.
.
(1) Healing Video HIV / AIDS Healed

http://www.youtube.com/watch?v=d_KkeO9to6k&feature=related

(2)Miracles in Nigeria 03 - HIV Positive

http://www.youtube.com/watch?v=E4eP1RC7Arg

(3)Healing Video cancer / cancer Healed

http://www.youtube.com/watch?v=cxnHZd_jvQM&feature=related

(4)Healing Video cancer/cancer Healed
http://www.youtube.com/watch?v=BVBSGNr3bDA

(5)(GOD's POWER) Mighty Anointing

http://www.youtube.com/watch?v=sthm3vH6ixY&feature=related

Anonymous said...

.
.
.
पाकिस्तानी मुस्लिम गुलशन एस्तर की गवाही in 10 part

http://www.youtube.com/results?search_query=Gulshan+Esther+&aq=f

.
.
.देखें और हकीकत से रुबरु होयें सही मार्ग अख्तियार करें
.
.

Anonymous said...

.
.
उूपर दिये गये लिंक में वीडियो देखें

मेरे प्रिय भाईयो अगर किसी को घातक बिमारी है तो निराश न हो निराशा मे मात्र एक आशा है यीशू मसीह
यीशू मसीह के नाम से आज भी लाइलाज बिमारियां ठीक हो जाती हैं आजमा कर देख लें

.
.
.
.

zeashan zaidi said...

Nice Message

Tausif Hindustani said...

नसीहत आमुज़ शुक्रिया

babanpandey said...

आदमी को उसके किये की सज़ा मिलेगी //
मेरे भी ब्लॉग पर आकर मार्ग दर्शन करे //
http://babanpandey.blogspot.com

મલખાન સિંહ said...

खत्ने से ही हल हो जाए तो जनाब क्या बात है...
बातों बातों में बात बन जाये तो जनाब क्या बात है...

क्योंकि आपके बारे मे बहुत कुछ सुन चुका हूँ। आपके ब्लॉग को अच्छे से पढ़ना चाहूँगा। हो सकता है आपने जीवन का सार निचोड़ लिया हो। अच्छा लगा तो शुक्रिया कहूँगा और न लगा तो भी शुक्रिया ही कहूँगा।